राँझना | भोले का भक्त

तुम्हे पहली नज़र देखते ही हम समझ गए थे कि तुम इस खूबसूरत शरीर के अंदर फंसी हुई बीहड़ तबाही हो। आसपास के लोग तुम में ताजमहल देख रहे थे पर हमें साफ़ दिख रही थी उस मकबरे में अपनी गंधाती कब्र।जानते थे कि तुम्हारे बीस फ़ीट के दायरे में, अगले बीस सेकण्ड और रहे तो हमें बर्बाद होने से हम खुद नहीं रोक पाएंगे। अगला कंपकपाता कदम हम जो बढ़ाने वाले थे तुम्हारी तरफ, हम जानते थे वहीँ से राहू की ट्रेजेक्टरी शुरू है। पर हम भी छाती पर भोलेनाथ गुदवाए बैठेै थे। हम में बचपन से टैलेंट ही यही था कि हमको तुरन्त पता चल जाता था कि हमारी लंका लगने वाली है। पर हमें इतिहास भी तो बनाना था।

 

देखो ये तो तय था कि तुम किसी न किसी का तो जीवन झंड करती ही, और शायद कईयों को, क्योंकि जो नशा तुम में था किसी एक का गुर्दा न झेल पाता। सो हमने उन सब गुर्दों का का जहर अपने गले ले लिया। तुमने भरोसा माँगा… हमने महादेव की कसम खा ली। तुमने प्यार माँगा, हमने जूनून दिया। तुमने साथ माँगा, हमने बिना हवनकुंड के इन नक्षत्रों के नीचे तुम्हे अपनी आत्मा दे दी।

 

हम टुकड़ों में थे तुमसे मिलने से पहले, तुमने जोड़ा हमें बड़े ऐहतियाद से और जब हम खड़े हुए बेख़ौफ़ तो तुमने हमें चकनाचूर कर दिया। तो ये चूरा मेरी अस्थियों का जो मेरे हाथों में है, इससे फिर से तुम्हारा नाम लिखें, या माथे पर तिलक लगाएं महादेव के नाम का और छोड़ दे तुम्हे इस दो कौड़ी की दुनिया के जिम्मे। पर तुम हो इतनी बड़ी कूडूम कि जीतने के बाद भी बैटिंग करती हो।
महादशा अभी खत्म नहीं हुई है, हमारे या तुम्हारे जीते जी तो नहीं जायेगी ये। तुम आओगी वापस और मेरा बचा खुचा भी ले जाओगी। क्योंकि तुम ज़रूरत के लिए नहीं शौख के लिए लूटती हो। पर घबराओ मत मेरी जान, आओ इस बार भी तुमसे वैसे ही भोलेपन से मिलेंगे जैसे न ही हमें ये खेल आता है और न ही इसके नियम। फिर से सजायेंगे खुद को नयी दुल्हन की तरह, फिर से खड़े होंगे तुम्हारी खुराख मिटाने को, फिर से गिरने को क्योंकि मेरी जान तुम तबाही हो, पर तुम ऐसी दिलकश तबाही हो कि तुम्हारे लिए तबाह होना बनता है। एक बार नहीं, बार बार, हर बार। और दिक्कत बस इस बात कि है कि ये बात तुम जानती हो
“कि हम भोले के भक्त हैं सारा जहर हमें ही पीना है।”

Comments

comments

This post has been viewed 416 times

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *