Kitabikeeda to sabhi h .......be a storyworm

Love Stories

Love ka The End

Love ka The End

30 बार कुछ कुछ होता है, 29 बार दिल तो पागल है और 20 बार दिलवाले दुलहनिया ले जायेंगे देखने के बाद लड़के को लगा की, उसके अन्दर भी एक शाहरुख़ खान मौजूद है. जिसके लिए भी कहीं किसी कोने में कोई सिमरन कोई अंजलि […]

Sonam gupta bewafa hai (10 rupees note bewafai ke kisse)

Sonam gupta bewafa hai (10 rupees note bewafai ke kisse)

शनिवार का दिन था.. अंतिम क्लास पीटी की थी.. आठवीं पीटी करते हुए सोनम ने प्रतीक से कहा- “तुम्हारा काम अगर पूरा है तो थोड़ा मैथवा का कॉपी दे देना”.. प्रतीक क्लास के टीपू सुलतान हैं.. टीपने में इनका कोई टक्कर का नहीं.. इनका काम […]

Bhid-ladka-ladki-pal bhar ka ishq

Bhid-ladka-ladki-pal bhar ka ishq

भीड़-लड़का-लड़की-पल भर का इश्क उस दिन आसमान पर धूसर रंग का कब्ज़ा नीले रंग से कुछ ज्यादा था बाकि दिन पहले जैसा ही। बस स्टॉप पर भीड़ थी,पर कोई भी कुर्सी पर बैठना नहीं चाहता था। फिर एक लड़की आई और भीड़ को चीरते हुए […]

3 tarikh 1000 rupye aur paneer ki sabzi

3 tarikh 1000 rupye aur paneer ki sabzi

3 तारीख,1000 ₹ और पनीर की सब्जी लड़के को लड़की से इश्क़ था पर लड़का कभी बोल नहीं पाया नहीं तो 28 तारीख को लड़की फ़ोन करके लड़के को अपनी शादी के लिए बुलाती भी नहीं।लड़का जानता कि अगर दिल के राज लड़की के सामने […]

कच्ची उम्र के पक्के वादे

कच्ची उम्र के पक्के वादे

कच्ची उम्र के पक्के वादें प्रिया अपने कमरे की चारों दीवारों को ताक रही थी हमारा रिश्ता केवल इंसानों के साथ ही नहीं होता हैं हम उस हर चीज़ से जुड़ जाते हैं जिसका वक़्त-बेवक़्त हमारी जिंदगी में दखल होता हैं फिर चाहे वो दीवारें, […]

पंडित जी की बकैती (Ranjhana)

पंडित जी की बकैती (Ranjhana)

“दो कटिंग देना बे! हाँ क्या कह रहे थे?” “कह ये रहे थे कि जब दो प्रेमी एक मोटरसाइकिल पर बैठे सफर कर रहे होते हैं तो उनके बीच मौजूद उस एक फ़ीट के फासले को देख कर पता चल जाता है कि मामला अभी […]

Berozgar Ashiq-4

Berozgar Ashiq-4

“हैलो कहाँ हो?” “घर पे हैं क्यों?” “आरहें हैं!!” “अरे वाह! आओ” (लड़का बोल तो दिया ‘अरे वाह आओ’ पर घर की हालत ऐसी! के जानवर भी लेटने बैठने से कतराएं..) लड़का भाग के ब्रश् करता है, 2 कप चाय चढ़ाता है.. लपक के “कउवा […]

Faasla

Faasla

फासला… जब मैं किसी ट्रेन की स्लीपर से उतर रहा था, तब देखा था तुम्हे किसी ए.सी. से उतरते हुए। खाली हाथ थे तुम्हारे, कई लोग आये थे लेने तुम्हे, सामान शायद ड्राईवर के हाथ था। और मैं, दो झोले हाथ में लिए, एक पुराना […]

Caste Problem

Caste Problem

“हेल्लो” “हाँ, क्या हुआ, फोन क्यों नहीं उठा रही थी” “यार लगता नहीं घर वाले मानेंगें” “तुमने बात की?” “हाँ, लेकिन कोई भी राज़ी नहीं है, बस वही पुरानी बात, लड़का कुर्मी पटेल होता तो उन्हें एक पैसे की दिक्कत न होती” “फिर तुमने क्या […]

Kichkichahaa Ishq part-3

Kichkichahaa Ishq part-3

किचकिचहा इश्क़ पार्ट 3… उन दोनों की दोस्ती फलक पे थी! अब msg की कोई गिनती न थी। अमित और श्वेता दोनों को एक दूसरे की पसंद और नपसन्द की पूरा बेवरा पता हो गया था। श्वेता की हिंदी भी दिन ब दिन दुरुस्त होती […]